खतरा : SC ST Act से आप भी जा सकते हैं जेल


भारत में सबसे शक्तिशाली और प्रभावशाली आंदोलन है एससी एसटी एक्ट के खिलाफ हुआ, जिनको भी इसके प्रभाव की जानकारी थी वैसे भी इस एक्ट के खिलाफ आंदोलन में उतरे और इस का जमकर विरोध भी किया समाज से इस बुराई को खत्म करने का पूरा प्रयास भी किया गया सरकार से मांग की गई है कि इस एक्ट को सुधारा जाए और सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर के अनुसार लागू किया जाए.

 खतरा : SC ST Act से आप भी जा सकते हैं जेल


आपको बता दें इस Act में बहुत सारी ऐसी बातें हैं जिनके कारण अब तक करीब 90 हजार से भी अधिक लोग बेवजह छह-छह महीने की सजा काट चुके हैं, इनमें से कई सारे साधारण मतलब कि मिडिल क्लास परिवार से होते थे और अपने घर का खर्चा चलाने वाले एकमात्र व्यक्ति थे उनके 6 महीने जेल जाने से उनका परिवार लगभग भुखमरी की कगार पर आ गया.

एससी एसटी एक्ट आज देश की सबसे बड़ी बुराई बना हुआ है इसीलिए नरेंद्र मोदी के समर्थक जो SC ST कास्ट के अंदर नहीं आते वह जमकर इसका विरोध कर रहे हैं और नरेंद्र मोदी को धमकी दे रहे हैं कि हम आप को वोट नहीं देंगे बल्कि NOTA दबाएंगे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुश्किल में हैं क्योंकि एक तरफ हिंदुओं का 25 करोड़ दलित बंधु है और दूसरी तरफ बाकी सारे हिंदू और बाकी दूसरे भारतीय नागरिक अब करें तो क्या करें.

Sc St Act से कितनी जातियां खतरे में हैं?

अगर सीधे शब्दों में बताया जाए तो केवल SC ST कास्ट के दलित हिंदू लोगों को छोड़कर भारत में रहने वाले सभी लोगों पर खतरा है.

फिर चाहे आप सवर्ण हिंदू( ब्राह्मण Teacher क्षत्रिय Security ), वैश्य( बनिया व्यापारी प्रजापति) हिंदू हो सभी पर यह खतरा है और इसके साथ साथ सीख,मुस्लिम, जैन और इसाई धर्म के भी सभी लोग इसमें खतरे में पड़ सकते हैं?

आखिर sc st act से खतरा क्यों?

सबसे बड़ी बात तो यही है, एससी एसटी एक्ट से खतरा क्यों? क्या आपको पता है आज के समय में लगभग सभी लोग बातचीत में कुछ अपशब्दों का इस्तेमाल करते हैं साधारणतया आध्यात्मिक क्षेत्र से दूर रहने वाले सभी व्यक्ति अपशब्द का इस्तेमाल करते हैं. यह कानून भी इसी से संबंधित है.

  • आपने देखा होगा SC ST अर्थार्थ दलित हिंदू लोग सामान्य बातचीत की भाषा में गालियों का इस्तेमाल करते हैं तो सरकार ने यह कानून बनाया है अगर आपको SC ST कैटेगरी के दलित हिंदू लोगों के द्वारा गालियां दी जाती हैं तो आप उनकी गलियों का जवाब पलटकर गालियों से नहीं देंगे और अगर आपने उनकी गलियों का जवाब गालियों से दे दिया और उस व्यक्ति ने आपके ऊपर शिकायत लिखवा दी तो आपको 6 महीने के लिए जेल में भेजा जाएगा.
  • इन 6 महीनों के अंदर आपकी कोई जमानत नहीं ले सकता
  • 6 महीने के अंदर आप अपनी कोई सफाई भी नहीं दे सकते
  • आपको निश्चित तौर पर 6 महीने की सजा काटनी होगी 
  • 6 महीने के बाद आप अपना वकील रख सकते हैं जो आप को जमानत है या फिर आप को निर्दोष सिद्ध करके रिहा करा पाएगा. अगर आप दोषी सिद्ध होते हैं तो आपको और ज्यादा सजा मिल सकती है|

मतलब कि किसी की गाली का जवाब गाली से देने पर आपको एक बड़े अपराध की तरह सजा मिल जाती है बस इसीलिए इसका विरोध हो रहा है क्योंकि यह कानून बिल्कुल एक तरह का मजाक है. लेकिन खुद को दलित नेता कहने वाले लोगों के बीच में इसे अधिकार माना जाता है. पूरा भारत वर्ष जानता है कि सबसे अत्यधिक अपशब्द प्रयोग करने वाले हैं इसी sc/st वर्ग के हैं.