मोदी को नहीं नोटा पर वोट करेंगे हम, सभी हिंदुओं की है कसम


 मोदी को नहीं नोटा पर वोट करेंगे हम, सभी हिंदुओं की है कसम

मोदी सरकार का नारा था कि अबकी बार मोदी सरकार और 2014 में सभी लोगों ने नरेंद्र मोदी का साथ दिया और भारी भरकम जीत दिलाई|

लेकिन इस बार नरेंद्र मोदी ने कुछ ऐसा किया है कि अब मोदी का सबसे ज्यादा सपोर्ट करने वाले यानी हिंदू धर्म के सनातन धर्मी लोग ही मोदी को राजनीति से बाहर करने पर तुले हुए हैं|

मोदी को नहीं नोटा पर वोट करेंगे हम, सभी हिंदुओं की है कसम


नरेंद्र मोदी हमेशा हिंदू एकता की बात करते थे और इसीलिए सभी हिंदू लोगों ने नरेंद्र मोदी को वोट दिया था क्योंकि लोगों को लगा था कि पहली बार कोई ऐसा नेता आया है जो अब हिंदू धर्म में जाति के नाम पर कोई भी राजनीति नहीं करेगा| नरेंद्र मोदी के पहले सभी नेताओं ने हमेशा हिंदुओं को जाति के नाम पर तोड़कर राजनीति की थी हिंदुओं को नरेंद्र मोदी से आशा थी और यही मोदी की 2014 में जीत का कारण बनी|

मोदी को नहीं नोटा पर वोट करेंगे हम, सभी हिंदुओं की है कसम

परंतु इस बार नरेंद्र मोदी ने कुछ ऐसा काम किया जिससे सभी को बहुत ही ठेस लगी| इसकी वजह SC ST Act काफी समय से हिंदुओं को जाति में लड़ा रहा था|

SC ST एक्ट का गलत प्रयोग लोगों को बना रहा अपराधी

उत्तर प्रदेश में राजकुमार रैदास ने हितेश गुप्ता के ऊपर पिछले वर्ष अगस्त में 2017 को SC ST एक्ट का इस्तेमाल करके शिकायत दर्ज की थी और हितेश गुप्ता को बिना जांच किए यानी कि बिना अपराधी साबित किए हुए एससी एसटी एक्ट के कारण 6 महीने की सजा हो गई 6 महीने की सजा काटने के बाद जांच की गई तो पता चला कि हितेश गुप्ता निर्दोष था और उस पर पर झूठा केस किया गया था|


6 महीने की सजा काट कर वापस आने पर हितेश गुप्ता को पता चला कि राजकुमार रैदास ने उसकी बेटी के साथ अभद्र व्यवहार किया पत्नी को परेशान किया| हितेश गुप्ता मिडिल क्लास फैमिली का था 6 महीने में उसके घर की स्थिति बहुत ही दयनीय हो चुकी थी और इस सब का दोषी राज कुमार रैदास था जिसने एससी एसटी एक्ट का झूठा मुकदमा हितेश पर किया| इसके बावजूद हितेश गुप्ता की सुनवाई नहीं की गई क्योंकि राजकुमार रैदास चर्मकार( शूद्र) था और उसे सरकार की विशेष सुविधाएं प्राप्त थी| इस से नाराज होकर हितेश गुप्ता ने राजकुमार रैदास की हत्या कर दी| और फिर से उसे जेल जाना पड़ा|

 मोदी को नहीं नोटा पर वोट करेंगे हम, सभी हिंदुओं की है कसम

इस सब में आप समझ सकते हैं कि दोषी राजकुमार रैदास था जिसने SC ST कानून का गलत उपयोग किया इस वजह से हितेश गुप्ता का परिवार बर्बाद हो गया, उसे 6 महीने की बेवजह सजा काटनी पड़ी थी सुनवाई न किए जाने पर मजबूरन उसे राजकुमार की हत्या अपराध करना पड़ा|
अगर जांच के बाद सजा दी जाती तो पहले ही पता चल जाता कि हितेश गुप्ता निर्दोष था उसे 6 महीने की सजा न काटनी पड़ती, ना ही उसका परिवार बर्बाद होता और ना ही वह प्रशासन से नाराज होकर असली दोषी की हत्या कर अपराधी बनता|

ऐसे अनगिनत कैसे हो रहे थे जिसमें कानून का गलत उपयोग किया जा रहा था क्योंकि एससी एसटी एक्ट में दर्ज शिकायत पर बिना जांच के सजा दी जाती थी| लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस कानून को ठीक किया और जांच के बाद सजा देने का प्रावधान बनाया|

 मोदी को नहीं नोटा पर वोट करेंगे हम, सभी हिंदुओं की है कसम


परंतु नरेंद्र मोदी ने कुछ समय बाद एससी एसटी एक्ट में फिर से बिना जांच के सजा दी जाने की पद्धति लागू कर दी| मोदी के अनुसार यह फैसला SC ST कैटेगिरी सिस्टम में आने वाली हिंदू जातियों के हित में लिया गया है| अब भी सवाल वहीं था कि अगर व्यक्ति निर्दोष है तो उसे बिना जांच के सजा क्यों दी जा रही है जब की अनगिनत कैसे निकलेगी जिसमें निर्दोषों ने सजा पाई है| और सभी की मांग यही थी कि केवल दोषी को सजा दी जाए यह जांच जरूरी होती है|

 मोदी को नहीं नोटा पर वोट करेंगे हम, सभी हिंदुओं की है कसम


लोगों को उम्मीद थी कि नरेंद्र मोदी हिंदू समाज को जोड़ने का जो दावा करते हैं वह हकीकत में भी करेंगे, लेकिन नरेंद्र मोदी ने सबसे बेकार स्थिति उत्पन्न कर दी विकास से पहले समाज का एक होना जरूरी होता है मोदी ने 5 साल के कार्यकाल में 4 साल तक हिंदुत्व का एजेंडा दिखाया और लोगों को एक करने की कोशिश का नमूना भी दिखाया लेकिन अंत समय जब सचमुच सब को एक करना था तो उन्होंने वापस सभी को तोड़ दिया|

मोदी को नहीं नोटा पर वोट करेंगे हम, सभी हिंदुओं की है कसम

लोगों को उम्मीद थी कि नरेंद्र मोदी दलित शब्द की गाली जो बार-बार हिंदुओं के एक बड़े समुदाय को दी जाती है उसे खत्म करेंगे| यह गाली कांग्रेस और मायावती के दल ने दी थी लेकिन नरेंद्र मोदी ने उसे खत्म नहीं किया| उम्मीद थी कि सरकार के द्वारा हिंदू समाज को केवल सुविधाएं इसलिए दी जाएंगी क्योंकि वह हिंदू है जाति के नाम पर नहीं|

हिंदू नोटा दबाएगा

मोदी सरकार से बस एक ही शर्त है हिंदुओं को लड़ाने की कोशिश मत करो कोई ऐसी योजना कोई ऐसा नियम बनाओ एकता की ऐसी मिसाल कायम करो कि हिंदू सारे फिर से एक हो जाएं और एक अखंड भारत बने| लोग आपस में लड़ते रहते हैं लेकिन हिंदू हिंदू से तो ना लड़ाई करें| जाति-पाति पर राजनीति करने वाले और उल्टे सीधे बयान देने वालों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए वरना हिंदू नोटा दबाएगा| ताकि कम से कम यह मलाल ना रहे कि हमारा विनाश हमारे कारण ही हो रहा है|

 मोदी को नहीं नोटा पर वोट करेंगे हम, सभी हिंदुओं की है कसम


जाति के नाम पर हिंदुओं में बहुत लड़ाइयां होती रही थी नरेंद्र मोदी से उम्मीद थी कि वह जाति प्रथा खत्म करेंगे जाति केवल नाम मात्र के लिए होंगी सम्मान के लिए नहीं, सम्मान कर्मों से मिलेगा लेकिन नरेंद्र मोदी ने यह नहीं किया| इसलिए इस बार सभी ने कसम ली है कि नरेंद्र मोदी को और किसी भी पार्टी को वोट नहीं दिया जाएगा क्योंकि सभी नेता केवल हिंदुओं को लड़वाकर अपनी जीत सुनिश्चित कर रहे हैं|

इसलिए अब हिंदू नोटा दबाएंगे|