गुरुवार, 2 अगस्त 2018


बजरंग दल को आमतौर पर मुस्लिम का मौलाना समाज पसंद नहीं करता क्यूंकि बजरंग दल इस्लामिक आतंक के खिलाफ आवाज उठता है। 

क्या है मामला ?


मुस्लिम गर्भवती पहुंची बजरंग दल के पास बोली


उत्तराखंड के देहरादून में एक ऐसी घटना हुयी जिसके बारे में जानकर आपको भी आश्चर्य होगा। 
एक मीट की दूकान चलने वाले रईस कुरैशी ने अपनी  में काम करने वाली अपनी बेटी के उम्र की 21 साल की लड़की से शादी कर ली और फिर उसके गर्भवती हो जाने के बाद उसे तलाक़ दे दिया। 

आलम ये रहा की लड़की की उसी के समाज का ठेका लेने वाले नेताओ और मौलानाओ किसी ने भी मदद नहीं की तब 21 वर्षीय लड़की ने बजरंग से मदद की अपील की पीड़िता को पूरा विश्वास था की उसे सहायता मिलेगी और मिली|

रईस कुरैशी 4० साल का है और 1  पत्नी पहले से है 

40 वर्षीय रईस कुरैशी ने दो शादियां कर रखी हैं। फिर भी उसने एक 21 साल की लड़की का जीवन बर्बाद किया। ये 21 वर्षीय लड़की उनकी दूसरी पत्नी थी जिससे उन्होंने कुछ महीने पहले ही शादी की थी लेकिन हाल ही में कुरैशी ने इस लड़की को तीन तलाक़ देकर घर से निकाल दिया।   लड़की को ऐसे समय में घर से बाहर किया गया जब वह गर्भवती थी। 

गरीब लड़की अपराधी की दूकान पर काम करती थी, उसका निशाना गयी 

लड़की बेहद गरीब परिवार से संबंध रखती है जो रईस कुरैशी की मीट की दुकान पर काम करती थी रईस की बुरी नजर लड़की पर पड़ गयी और रईस ने उससे दिखावे के लिए शादी कर ली थी | 
शादी को बीते कुछ ही महीने हुआ था कि रईस और उसकी पहली पत्नी ने लड़की पर अत्याचार शुरू कर दिया।  जब लड़की ने उनके जुल्म के खिलाफ आवाज उठाना चाहा तो उसे उसके पति ने तीन तलाक दे दिया.

कोई काम न आया बजरंग दल ने साथ निभाया 

पीड़िता ने कोई रास्ता ना निकलता देख स्थानीय बजरंग दल के सदस्यों से खुद को न्याय दिलाने की मांग की  बजरंग दल के सदस्यों ने युवती की मजबूरियों को देखते हुए उसकी मदद की और उसे पुलिस मुख्यालय लेकर गये पुलिस महानिदेशक ने लड़की को न्याय दिलवाने का भरोसा दिलवाया है। 
बजरंग दल समाज सुधारक दल है और वह इस तरह हिन्दू मुस्लिम सभी की मदद करता है कई बार बजरंग दल  ऐसी प्रकार के गलत कामो के खिलाफ आवाज उठा चूका है और पीड़िता को मदद दिला चूका है  इसलिए मुस्लिम मौलाना लोगो को सबसे ज्यादा खटकता है। 


Next article Next Post
Previous article Previous Post