शुक्रवार, 6 जुलाई 2018


 कर्नाटक में कांग्रेस और जीडीएस की गठबंधन की सरकार बनी हुई है गठबंधन बनाना जरूरी पड़ गया था क्योंकि जिस प्रकार एक BJP के पास भारी भरकम जनमत था उसके चलते कांग्रेस और जीडीएस को कुछ भी मिलने वाला नहीं था अब दोनों की पार्टी को जिंदा रहने के लिए मिलना पड़ा| Congress JDS ने लोगों का वोट पाने के लिए जल्दबाजी में एक बहुत ही लंबा चौड़ा वादा कर दिया था|
 क्या सच में कांग्रेस ने कर्नाटक के किसानों का कर्ज माफ किया?
कर्नाटक में किसी किसान का कर्ज माफ़ नहीं किया गया है
व्याख्यात्मक चित्र 

किसानों का कर्ज माफ करने का बढ़ा - चढ़ा वादा

कांग्रेस और जीडीएस के गठबंधन ने वादा किया की सरकार बनते ही 10 दिनों के अंदर किसानों का कर्ज माफ करेंगे.

चलिए अब हम पता करते हैं कि इसकी सच्चाई क्या है? 

10 दिनों में कर्ज माफ़ करने का वादा किया था यहाँ महीने गुजर गए कर्ज माफ़ नहीं किया गया.

कर्ज माफी का ऐलान करने के बाद से रोजाना इसका प्रचार कराया जा रहा है कांग्रेस अपने कर्जमाफी के ऐलान का जमकर प्रचार कर आ रही है और वाहवाही भी प्राप्त कर रही है सोशल मीडिया WhatsApp ट्विटर पर फोटोस बनवाकर अलग-अलग अकाउंट से डलवाए जा रहे हैं ताकि इसका अच्छा सा प्रचार हो सके और इसका फायदा चुनाव में कांग्रेस को मिले|

किया था कर्ज माफ करने का वादा लेकिन यह क्या यह तो धोखा है


 कुमार स्वामी, Rahul gandhi ने 34,000 करोड़ के बजट का एलान किया की कर्ज माफ करेंगे  और इसके साथ ही शर्तें भी रख दी शर्तें क्या है उनको ध्यान से देखिए


  • कर्ज केवल उन्हीं किसानों का माफ होगा ₹200000 या उससे कम  लोन लिया होगा
  • कर्ज जाति के आधार पर माफ किया जाएगा
  • सभी किसानों का नहीं बल्कि कुछ चुने हुए लोगों का माफ किया जाएगा जिनको कांग्रेस के कार्यकर्ता या फिर सांसद विधायक जानते होंगे|


अब karnataka के किसानो का बुरा हाल है क्यूंकि अब उन्हें समज आ रहा है की कर्ज माफ़ी के नाम पर उनके साथ मजाक हो रहा है| अब आप खुद ही सोचिये कांग्रेसी या फिर जेडीएस वाले लोगो के यहाँ चक्कर लगा कर कितने किसान अपना कर्ज माफ़ करा पाएंगे|

किसानों का हाल ऐसा है कि अब कुछ सोचते नहीं बन रहा

karnataka किसानों का हाल ऐसा है कि अब कुछ सोचते नहीं बन रहा
व्याख्यात्मक चित्र 

देशभर में अगर कहीं भी किसानों का सबसे बदतर हालात है तो वह केवल कर्नाटक में है वजह किसानों को उनकी फसलों का सही दाम नहीं मिल रहा है.

कर्ज माफ करने की बात कह दी लेकिन किया नहीं और ऊपर से महंगाई बढ़ाते ही जा रहे हैं राहुल गांधी. केंद्र सरकार पर निशाना साधने के लिए कहा करते थे कि उन्होंने पेट्रोल के दाम बढ़ा दिए लेकिन जब केंद्र सरकार ने पेट्रोल के दाम कम कर दिए हैं तो अब कर्नाटक में कुमार स्वामी और राहुल गांधी खुद ही इन सब दामों में बढ़ोतरी कर रहे हैं| यानी कि पूरी तरह से जनता को परेशान करना शुरु हो चुका है|


 जैसा कि हर बार होता है सरकार बनने के बाद हमेशा से यही रवैया रहा है और इस बार भी कर्नाटक में कांग्रेस और जीडीएस की सरकार के द्वारा ऐसा ही किया जा रहा है|


 कर्ज तो माफ हुआ नहीं लेकिन हुई महंगाई की मार 


व्याख्यात्मक चित्र 


देशभर में पेट्रोल 76.60 - 80 में है लेकिन कर्नाटक में 2 परसेंट दाम और बढ़ा दिए गए

 डीजल के दाम में भी 2% की बढ़ोतरी कर दी गई

 और इसके साथ साथ सामान्य परिवार वालों पर भी मुसीबत का पहाड़ टूट पड़ा है क्योंकि बिजली के बिल अब ज्यादा भरने पड़ेंगे क्योंकि बिजली के दामों में भी बढ़ोतरी हो गई है.


कितनों का कर्ज माफ हुआ

 क्या सच में कांग्रेस ने कर्नाटक के किसानों का कर्ज माफ किया?
व्याख्यात्मक चित्र 

अभी किसी का एक भी पैसा माफ नहीं हुआ है अभी केवल प्रचार चल रहा है कांग्रेस ने अभी केवल ऐलान किया हुआ है और इस ऐलान पर वाहवाही प्राप्त करने का कार्य चल रहा है

वाहवाही के लिए जोरों-शोरों से सोशल मीडिया पर फोटो शेयर करा कर और बैनर्स के द्वारा प्रचार किया जा रहा है|

 हर फोटोस और बैनर में राहुल गांधी को लगा कर के प्रचार किया जा रहा है और लिखा जाता है कि राहुल गांधी पीएम बनने के लायक है अब इसी से पता चलता है कि यह योजना केवल कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी के प्रचार के लिए उपयोग की जा रही है किसी भी एक किसान का कर्ज माफ नहीं हुआ हां लेकिन वीडियोग्राफी काफी चल रही है एक्टिंग के लिए fake किसान बनाए जा रहे हैं|


असमंजस में है किसान


कर्नाटक काफी बड़ा राज्य है वहां हर किसान दूसरे किसान को नहीं जानता और इसी का फायदा अच्छे से उठाया जा रहा है किसी भी व्यक्ति को किसान का किरदार निभाने के लिए बुलाया जाता है और उसे पैसे देकर के किसान की एक्टिंग करने को कहा जाता है आप वीडियो में देखेंगे तो वह आपको किसान बना हुआ नजर आएगा लेकिन उस पर भरोसा करना होशियारी नहीं होगी क्योंकि यह वीडियो आने वाले चुनाव में प्रचार के लिए कांग्रेस पार्टी द्वारा बनवाया जा रहे हैं|

उन में अगर कोई आम व्यक्ति भी होता है तो वह केवल एक्टिंग करने के लिए बुलाया गया होता है जो कुछ वह बोलता है वह उसे पहले से बताया गया होता है|

उम्मीद करते हैं अब आपको पता चल गया होगा कि कर्नाटक में किसान कर्ज माफी की योजना का सच क्या है. अब अगर आपको कर्ज माफी की कोई नकली खबर मिले सोशल मीडिया पर या फिर WhatsApp पर तो उसे इस खबर का लिंक पोस्ट करें|


Next article Next Post
Previous article Previous Post