चर्च में महिला का 380 बार बलात्कार : केरल : कार्यवाही नहीं


केरल में चर्च के पांच पादरियों ने महिला का बलात्कार किया यह वही राज्य है जहां पर हिंदू नेताओं को मार दिया जाता है, उस नेता को मार दिया जाता है जो हिंदू लोगों पर हो रहे अत्याचार के खिलाफ बोलता है PFI इन हत्याओं में शामिल रहने वाला एक बड़ा संगठन है|

चर्च के 5 पादरियों ने किया महिला का 380 बार बलात्कार : केरल : कार्यवाही नहीं


भारत के राष्ट्रवादियों के द्वारा इसके खिलाफ कई बार आवाज उठाई गई है बाकी राजनीतिक पार्टियां लंबे समय तक भारत में शासन करती आ रही है उन्होंने कभी भी इस पर लगाम नहीं लगाई और ना ही इन्हें कानून से कोई दंड दिया| आपको जानकर आश्चर्य होगा कि भारत का उपराष्ट्रपति रह चुका हामिद अंसारी इन PFI के लोगों को सजा देने की बजाय शाबाशी तक दे चुके हैं|

हैवानियत की हद पार की ईसाई पादरियों ने

केरल में जिस महिला के साथ बलात्कार हुआ यह घटना बहुत ही चौंकाने वाली है और बहुत ही दुखद है भारत सरकार को चाहिए कि ऐसी घटनाओं में तुरंत कार्यवाही की जाए और कठिन और कठोर दंड दिया जाए| आपको बता दें कि उस महिला के साथ पांच पादरियों ने एक बार नहीं बल्कि पादरियों ने महिला का 380 बार बलात्कार किया|

चर्च में आस्था रखना बना खतरनाक

इसी गलती की वजह से ही है उन पादरियों के चपेट में आ गई महिला का नाम गुप्त रखा गया है


पादरियों को नहीं दी गई सजा

आपको सबसे जानकर आश्चर्य होगा की चर्च के उन पांचों  पादरी जिन्हें फादर भी कहा जाता है उन को सजा नहीं दी गई है बल्कि छुट्टी पर भेज दिया गया है ताकि जब मामला शांत हो जाए तब तक वह चर्च में काम पर ना आए|

 आपको विस्तार में बताते हैं कि पूरी घटना क्या है दरअसल पांचो अपराधियों में से ही एक पादरी ने कन्फेक्शन के लिए पादरी ने महिला को बुलाया और इसके बाद बाकी पादरियों के साथ मिलकर दुष्कर्म को अंजाम दिया और इसके बाद शुरू हो गया उसकी इज्जत के साथ खेल, यह जब भी चाहते तो उसे ब्लैकमेल करके बुलाते और फिर उसका शोषण करते यह सिलसिला कई दिनों तक चलता रहा|

अब ईसाई लोगो को चर्च से विश्वास उठ गया है क्यूंकि खुद को ईसाई का ठेकेदार कहने वाले अब अपने अपराधों पर पर्दा डाल रहे है|