सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत मांगने वाली कांग्रेस बोली सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो जारी क्यों किया


 कांग्रेस पार्टी का दोहरा चरित्र सामने आ रहा है 2016 में जब सर्जिकल स्ट्राइक की गई थी तो सबसे पहले पाक मीडिया ने कहा था कि हमारे सैनिकों को नहीं मारा गया किसी की हिम्मत नहीं है की हमारे यहां सर्जिकल स्ट्राइक कर पाए| लेकिन सर्जिकल स्ट्राइक भारत की सेना ने पाकिस्तान में की थी और पाकिस्तान के अंदर घुसकर आतंकवादियों को मारा था इतना ही नहीं भविष्य में ऐसे सवालों की आशंका पहले से ही थी इसीलिए भारतीय सेना ने उसका वीडियो भी तैयार कर लिया था और वह वीडियो जारी भी किया गया लेकिन एक बार फिर से मुद्दे से भटकाने वाला काम करते हुए सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत मांगने वाली कांग्रेस बोली सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो जारी क्यों किया|




 हमारे सैनिक हैं कोई प्रोफेशनल वीडियो शूट करने वाले  तो नहीं इसलिए जैसा कर पाए वैसा उन्होंने कोशिश में किया| अजीब बात यह हुई कि भारत की एक पार्टी जिसे कांग्रेस के नाम से जाना जाता है उसने नरेंद्र मोदी के द्वारा संचालित इस सर्जिकल स्ट्राइक ऑपरेशन पर सवाल उठा दिए और पाकिस्तान मीडिया के सुर से सुर मिलाकर नरेंद्र मोदी से सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत मांगा| नरेंद्र मोदी और भारतीय सेना ने इसे नजरअंदाज किया कि यह विपक्ष की बौखलाहट है ध्यान नहीं देना चाहिए|


 लेकिन धीरे-धीरे यह मांग बढ़ती चली गई और विपक्ष का हर नेता सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो मांग रहा था और देशद्रोहियों की तरह भारतीय सेना को भला बुरा कह रहा था वैसे इसमें आश्चर्य नहीं होना चाहिए क्योंकि कांग्रेस और उसके समर्थक राजनीतिक दल तो हमेशा से ही भारतीय सेना को गालियां देते आए हैं उन्हें फर्क नहीं पड़ता कि हमारी इच्छा होनी सैनिकों की वजह से होती है|

कांग्रेस ने पहले खुद ही वीडियो मांगा, अब कर रहे हैं वीडियो जारी करने का विरोध

 कांग्रेस के नेताओं ने में ही प्रेस कॉन्फ्रेंस करके सर्जिकल स्ट्राइक के वीडियो की मांग की जब तक सबूत नहीं दिया जाता हम मानेंगे ही नहीं कि सर्जिकल स्ट्राइक हुई थी|

 आपको हम उस समय की प्रेस कॉन्फ्रेंस का बयान नीचे वीडियो में दे रहे हैं वीडियो देखकर कि आप उन लोगों की दोहरी जुबान को समझ जाएंगे पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने सबूत की मांग की लेकिन जब सबूत दे दिया गया तो वही नेता जो कांग्रेस के प्रेस कॉन्फ्रेंस करके सबूत की मांग कर रहे थे बाद में कह रहे हैं की नरेंद्र मोदी ने अपनी 56 इंच की छाती दिखाने के लिए वीडियो जारी किया है|



कांग्रेस के सुरजेवाला और संजय निरुपम इन दोनों ने पहले सबूत मांगा और फिर जब वीडियो जारी कर दिया गया जिसमे सच्चाई प्रमाणित हो गई तब यह बौखला कर के अपने ही पिछले बयान को भूल कर के, बयान दे रहे हैं कि वीडियो जारी नहीं करना चाहिए था|

Post a Comment

0 Comments